A POEM ON ONE SIDED LOVE IN HINDI

एक तरफा प्यार पर एक कविता

A Poem On One Sided Love by Nitu Saha

जानती हूँ  ये एकतरफा प्यार है 

दिल की बातें आज फिर से जुबां  पर लाई हूँ

हर बार जो कहती हूँ  आज भी वही कहने आई हूँ

तू तो जानता है सब कुछ शायद मैं  भी जानती हूँ

लेकिन फिर भी वही फ़रियाद लेकर

आज फिर से तेरे दर पे आई हूँ

आज फिर से तेरे दर पे आई हूँ …

सारी दुनिया को छोड़ के

सिर्फ उन्ही से दिल लगाया है

इस दिल ने अगर किसी को दिल से चाहा है

तो बस उन्हे  ही चाहा है

मेरी हर साँसों में , मेरी हर धड़कनो में

सिर्फ उन्ही का नाम लिखा है

मेरी हर ख्वाबों  में , मेरी हर यादों में

सिर्फ वो ही आते जाते रहते है

क्यों हर बार सिर्फ उन्ही का चेहरा आता है मेरे सामने

नहीं जानती ये केसा इशारा है

या मौला बहुत ही खूबसूरत सपना दिखाया है तूने

क्या यह सपना कभी सच भी होगा…

इंतजार की घड़ीया  कुछ ज्यादा ही लम्बी हो चुकी है

अब तो बेचैनी भी हर दिन बस बढ़ती ही जा रही है

इस दिल की धड़कने कही थम ही न जाय

हो सके तो इससे पहले ही मिला दे उनसे ।

क्या ये सच है या कोई भ्रम

जानना चाहती हु अब मैं

कम से कम यही जानने का एक मौका देदे

हाँ ये एक तरफ़ा प्यार है 

जानती हूँ मैं भी

लेकिन विश्वास अभी भी बरकरार है मुझमें ।

इस विश्वास को कभी टूटने मत देना मेरे मौला

यही तो मिन्नतें बार बार करती हूँ तुझसे

बस एक बार उनसे मिला दे

इसके अलावा और कुछ नहीं मांगूंगी तुझसे

और कुछ नहीं मांगूंगी तुझसे ….

Leave a Reply

%d bloggers like this: